Home » रंगमंच

रंगमंच

लोक पंच नाट्य संस्था का शुरू हुआ ‘दशरथ मांझी नाट्य महोत्सव’, नाटक- तू छुपी है कहां का सफल मंचन

पटना- लोक पंच के बैनर तले आयोजित किए जा रहे पटना में दशरथ मांझी नाट्य महोत्सव के पहले दिन सोमवार को इश्तियाक अहमद द्वारा लिखित नाटक तू छुपी है कहां का मंचन किया गया। महोत्सव की शुरुआत संगीत नाटक अकादमी , नई दिल्ली, के सचिव (नाटक) , प्रतिभा जी , सचिव मंडली, दिल्ली एवं वार्ड पार्षद संजीव आनंद के द्वारा …

Read More »

PATNA में फिल्मी कलाकारों ने PS राठौर का श्रद्धांजलि समारोह किया आयोजन

पटना- महाकाल के भक्त और मल्टी प्रतिभा के धनि यंगेस्ट कैमरामेन पवन सिंह राठौर का सोमवार को पटना के एग्जिबिशन रोड, नर्मदा अपार्टमेंट में आर डी मोशन पिक्चर के कार्यालय में श्रद्धांजलि सभा आयोजित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी गयी जिसमें पटना के कई कलाकार, टेक्नीशियन, प्रोड्यूसर, डिस्ट्रीब्यूटर और फिल्म निर्देशक उपस्थित रहे | सभा में उपस्थित लोगों ने दो मिनट …

Read More »

36वें पाटलिपुत्र नाट्य महोत्सव में ‘विश्वा’ पटना की प्रस्तुति “सारी रात” में दिखा प्रेम पाने कि अकुलाहट

 सारी रात ढूंढने के बाद भी नही मिला प्रियतमा का प्रेमी “रंजन”…. पटना- कालिदास रंगालय, पटना में प्रांगण पटना द्वारा आयोजित 36वें पाटलिपुत्र नाट्य महोत्सव के दुसरे दिन ‘विश्वा’ पटना की प्रस्तुति “सारी रात” का मंचन राजेश राजा के निर्देशन में किया गया | नाटक के कथासार के अनुसार – एक स्याह अंधेरी रात में उपजा सत्य प्रकाश के आलोकित होने …

Read More »

बयार के “रंगलीला” नाट्य महोत्सव में नाटक ‘गगन घटा घहरानी’ में भाईचारे और प्रेम का दिखा सतरंगी

पटना- कालिदास रंगालय पटना में शुक्रवार से संस्था ‘बयार’ द्वारा तीन  दिवसीय नाट्य महोत्सव “रंगलीला” का शुभारंभ किया गया । महोत्सव का उदघाटन डॉ शांति जैन, डॉ अजय कुमार पाण्डेय और वरिष्ठ रंगनिर्देशक संजय उपाध्याय ने संयुक्त रूप से किया। महोत्सव के पहले दिन निर्माण कला मंच संस्था ने सुमन कुमार लिखित और संजय उपाध्याय निर्देशित नाटक ‘गगन घटा घहरानी’ का मंचन किया| नाटक कबीर के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर …

Read More »

एक रंगकर्मी का केंद्र और राज्य सरकार को अनुनय सन्देश… पढ़िए पूरी खबर

कलाकारों के लिए पुनः व्यक्तिगत अनुदान देने पर विचार करे सरकार- अर्चना सोनी पटना- जैसे रंगमंच समाज का आईना है, वैसे है भारतीय संस्कृति के विकास में विभिन्न कलाओं का बड़ा ही योगदान रहा है | इन बातों को समाज और सरकार भी भलीभांति समझती है फिर भी सरकार कला अथवा कलाकारों का कदर नहीं करती है जो निंदनीय है | …

Read More »

पटना में तीन दिवसीय नाट्य समारोह में संजय उपाध्य ने नाटक ‘विदेसिया’ की 725वीं प्रस्तुति कर फिर रचा नाट्य इतिहास

‘गौऊना करा के पियबा भागल परदेस हो रामा…’ प्यारी सुंदरी के इस दर्द से कराहता रहा प्रेक्षागृह…   पटना- जीवन में प्रेम, विरह, वेदना और वास्तविक परिस्थिति का साक्षात्कार अगर देखना हो तो नाटक ‘विदेसिया’ को जरूर देखना चाहिए, जहां जीवन के अनेक रंगों से आप रू-बरू होंगे | देसी अभिनय शैली, लोक गीतों और संगीतों का विभिन्न आयाम विदेसिया …

Read More »

कालिदास रंगालय में हुई नाटक “फंदी” की सफल प्रस्तुति

पटना- नाट्य चिन्तक अनिल कुमार मुखर्जी जयंती पर आयोजित नाट्य फेस्टिवल में गुरुवार को डिवाइन संस्था द्वारा नाटक ‘फंदी’ का मंचन किया गया | पटना के कालिदास रंगालय के मंच पर नाटक ‘फंदी’ के कलाकारों ने दर्शकों के सामने एक ऐसी मजबूरी से साक्षात्कार कराया जो इंसान को – क्या सही क्या गलत के उलझन में डाल देता है | …

Read More »

नाटक ‘गबरघिचोर’ में सौरभ ने 22 की उम्र में 60 साल के चरित्र को किया जीवंत

पटना- भिखारी ठाकुर के नाटकों में से एक सर्वलोकप्रिय नाटक है “गबरघिचोर”। सोमवार को पटना के कालिदास रंगालय में इस नाटक का मंचन देखने को मिला। नाटक की प्रासंगिकता शायद ही किसी रंगदर्शक से अबुझ होगा। इनकी भाषा खांटी भोजपुरी जो बिहार के दर्शकों के मष्तिष्क में रमा है और ऊपर से म्यूजिकल थीम से लबालब। सबसे खास बात की …

Read More »

कालिदास रंगालय में, सिस्टम पर करारा प्रहार किया अभिनेता मनोज मानव का “मैं तमाशा”

पटना-  बिहार में पटना रंगमंच का एक ख़ास पहचान है और पटना रंगमंच के रंगकर्मी अपने को तराशने में कोई कसर नहीं छोड़ते है| वे लगातार रंगमंच की गतिविधि को जारी रख कर अपने अभिनय का परचम देश भर में फहराते रहते है |इसी कड़ी में रविवार को अभिनेता मनोज मानव ने अपने बेहतरीन अभिनय का परिचय एकल अभिनय के …

Read More »

‘रसप्रिया’ नाटक में एकल अभिनय का “बुल्लू” ने छोड़ा छाप

पटना- कालिदास रंगालय के प्रेक्षागृह में रंगमार्च द्वारा 7 वां थियेटर वाला 5 दिवसीय एकल अभिनय नाट्य फेस्टिवल के पहले दिन ही पटना रंगमंच के सशक्त अभिनेता बुल्लू कुमार की धमाकेदार प्रस्तुति रही।

Read More »