Home » जरा हटके

जरा हटके

हवन में मंत्र के अंत में उच्चारण का स्वाहा क्यों होता है, जानें स्वाहा क्या हैं?

प्रस्तुति – अनमोल कुमार – हर देवता के निमित्त हविष डालने के लिए आपके उनके मंत्र का उच्चारण करते हैं और आखिर में बोलते हैं स्वाहा। कई बार तो मंत्र का उच्चारण पुरोहित ही करते हैं यजमान सिर्फ स्वाहा बोलते हैं। स्वाहा का उच्चारण बोलना भी पर्याप्त माना जाता है। उस देवता को आपकी तरफ से हविष पहुंच जाती है। …

Read More »

मत परेशान हो मस्त रहो व्यस्त रहो क्योंकि 40+हो

प्रस्तुति – अनमोल कुमार – चालीस साल की अवस्था में “उच्च शिक्षित” और “अल्प शिक्षित” एक जैसे ही होते हैं। पचास साल की अवस्था में “रूप” और “कुरूप” एक जैसे ही होते हैं। (आप कितने ही सुन्दर क्यों न हों झुर्रियां, आँखों के नीचे के डार्क सर्कल छुपाये नहीं छुपते*) साठ साल की अवस्था में “उच्च पद” और “निम्न पद” …

Read More »

करवा चौथ आज- क्या है ख़ास, कहां कितने बजे दिखेगा चांद…

महाराष्ट्र में सबसे आखिरी में निकलेगा चंद्रमा पटना- कार्तिक महीने के कृष्णपक्ष की चतुर्थी पर करवा चौथ पर्व मनाया जाता है. इस व्रत में महिलाएं दिनभर बिना कुछ खाए-पिए रहती है. इस तरह निर्जल रहकर पति की लंबी उम्र और घर में सुख-समृद्धि की कामना से दिनभर व्रत रखती है. ये व्रत शाम को चांद निकलने तक रखा जाता है. …

Read More »

हनुमान चालीसा कब लिखा गया क्या आप जानते हैं। नहीं तो जानिये, शायद कुछ ही लोगों को यह पता होगा?

अनमोल कुमार :- पवनपुत्र हनुमान जी की आराधना तो सभी लोग करते हैं और हनुमान चालीसा का पाठ भी करते हैं, पर यह कब लिखा गया, इसकी उत्पत्ति कहाँ और कैसे हुई यह जानकारी बहुत ही कम लोगों को होगी। बात 1600 ईस्वी की है यह काल अकबर और तुलसीदास जी के समय का काल था। एक बार तुलसीदास जी …

Read More »

अजूबा- एक ऐसी जीवंत महिला जिसका Heart शारीर में नहीं बैग में है…

पटना- आपको चौंका देने वाली एक ऐसी खबर से डिजिटल न्यूज रु-बरु करा रहा है जो प्रकृति के विपरीत होते हुए भी विज्ञान के विकास कि एक अजूबा पहल आपके सामने है. शायद आपको ये खबर किसी उपन्यास की मार्मिक कहानी लग सकती है लेकिन ये सच्ची और जीवंत खबर है जिसे जानने के लिए पूरी खबर पढनी होगी. ब्रिटेन …

Read More »

प्रेम ग्रंथ मे पुरुषों का स्त्री के प्रति समर्पण और अगाध प्रेम

आलेख – अनमोल कुमार पुरूष जिसके लिए बहुत कम लिखा गया है.. सारा प्रेम,,सौंदर्य साहित्य आ गया स्त्रियों के हिस्से।। शायद इसलिए ही क्योंकि पुरूषो ने स्वयं को महत्व नही दिया,,अपने से बहुत ऊपर रखा अपनी प्रेयसी को। सच भी यही है,,जब पुरूष अथाह प्रेम मे होता है,,वो शब्दों से नही जता पाता प्रेम को अपने, स्त्रियों के पास प्रेम …

Read More »

शंख की महिमा एवं इतिहास !!

पौराणिक रूप – समुद्र मंथन से प्राप्त चौदह रत्नों में एक रत्न शंख है।माता लक्ष्मी के समान शंख भी सागर से उत्पन्न हुआ है इसलिए इसे मातालक्ष्मी का भाई भी कहा जाता है।सनातन हिन्दू धर्म में शंख को बहुत ही शुभ माना गया है,इसका कारण यह हैकि माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु दोनों ही अपने हाथों में शंख धारण करते …

Read More »

सिएटल स्थित भारतीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर को कैसे मिला जीवन में आंतरिक खुशी का सूत्र?

सुमन श्रीनिवासन दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनियों में से एक में काम कर रहे हैं। प्रतिष्ठित कोलंबिया विश्वविद्यालय से पी.एच.डी. डिग्री प्राप्त और गोल्डमैन सैक्स और मेरिल लिंच जैसे दुनिया के शीर्ष निवेश बैंकों में काम कर चुके सुमन जीवन के लिए एक बहुत ही सकारात्मक और सरल दृष्टिकोण रखते हैं। वे बताते हैं कैसे फालुन दाफा के ध्यान …

Read More »

मां गायत्री को वेदमाता के रूप में भी जाना जाता है…

PATNA : गायत्री की महिमा के पवित्र वर्णन शास्त्रों में अनेक जगह मिलते हैं। वहीं वेदों में मां गायत्री को वेदमाता , देवमाता और विश्वमाता माना गया है। गायत्री मंत्र त्रिदेव बृह्मा, विष्णु और महेश का सार है। ये भारतीय संस्कृति की जन्मदात्री भी मानी जाती हैं। सभी ऋषि-मुनि भी गायत्री का गुण-गान करते हैं। पंचमुखों वाली भी बताई गईं …

Read More »

ताप्ती जयंती और कर्क संक्रांति पर्व का संजोग

पटना l 16 जुलाई ताप्ती जयंती भगवान श्री पुत्री ताप्ती नदी के “दिवस के रूप में मनाया जाता है मान्यता यह है कि भगवान सूर्य अपनी भीषण गर्मी और ताप से बचाने के लिए ताप्ती को पृथ्वी पर अवतरित किया l इनका उद्गम मध्य प्रदेश के बैतूल जिले न होता है l कर्क संक्रांति सूजी का कर्क राशि में प्रवेश …

Read More »